अब क्या करेगी सरकार

पकिस्तान ने ऐसा कुछ नही किया जिसकी हमें उम्मीद नही थी, उसना ठीक वैसा ही किया जैसा एक आम भारतीय सोच रहा था......मुंबई हमले के दौरान हमारे देश के प्रधानमंत्री जी ने पकिस्तान को अपने हिसाब से काफी कड़े शब्दों में चेतावनी दे दी थी पर उसका क्या हाल हुआ यह हम सब ने देख लिया.....उस वक्त तो पकिस्तान ने हमसे कह दिया की वोह हमें सहयोग करेगा.... लेकिन जैसे जैसे हमारे देश के नेतायों की राजनीती शुरू हुयी वैसे ही पकिस्तान भी अपने रंग में आ गया....अब तो वोह न तो हमें हमारे गुनाहगार देगा और न तो दहशतगर्दी का खेल बंद करेगा....उपर से पाकिस्तानी अख़बारों का यह कहना की भारत में जो कुछ हो रहा है वोह भारतीय ही करा हैं काफी सोचनीय विषय है....

क्या कहना

क्या कहना सुच में अपने देश के राजनीतिज्ञों के बारे में कुछ भी कह पाना बहुत मुश्किल है...यह दूसरो को कुत्ता बना रहे हैं और अपने बारे में सोचने के वक्त भी नही निकाल पा रहें हैं... केरल के मुख्यमंत्री अच्युतानंद जी से अब यह उम्मीद नही थी की वोह अपने बारे में सोच पाने का समय भी नही निकाल पाएंगे....अरे हुज़ूर मुख्यमंत्री जी क्या आप को मालूम है की अगर आप सी. एम्. नही होते तो देश की जनता आप के साथ क्या सलूक करती....

बदलाव यहाँ भी ........ 
बहुत बहुत अच्छा हुआ की संजय निरुपम को अपनी ही नही देश के हर नेता की औकात का पता चल गया.....उन्हें ही नही देश के हर नेता को अपनी औकात का पता चल गया.....जिस तरह से मुंबई के लोगों ने संजय निरुपम को भाग जाने पर मजबूर कर दिया इसी तरह देश के तमाम नेताओं के साथ भी करना चाहिए ....लेकिन देश के उन तमाम पढ़े लिखे लोगों को भी सोचना चाहिए की वो देश को दे क्या रहें हैं.....मैं मानता हूँ की आप बहुत कुछ दे रहें होंगे पर शायद आप अपना वोट नही दे रहें हैं.....और जब तक आप वोट नही देंगे इस समस्या का समाधान दूंढ़ पाना बहुत मुश्किल है...हम इन नेताओं को वैसे इन्हे नेता कहना ग़लत है...यह लोकतंत्र की नौकरी कर रहें हैं और सांसद या विधायक हैं लेकिन नेता तो नही हैं...बहरहाल बात वोट की हो रही है तो उसी की हो ...... पढ़े लिखे लोगों के लिए वोट देने जाना एक जहमत के जैसे होता है.....वो तो वोटिंग वाले दिन को छुट्टी के दिन की तरह मानते हैं .....इस दिन लोग अपने नाते रिश्तेदारों से मिलने जाते हैं....इंजॉय करते हैं....पर वोट नही देते हैं.........ए मेरे वतन के लोगों वोट दीजिये और इन सांसदों और विधायकों को नेता बना दीजिये ...... बाकि आगे के ब्लॉग में जय हिंद

dhanyavaad pradhan mantri ji
dhaynavad pradhanmantri ji aapne hame yeh bataya diya ki mumbai mein aatanki hamla karne wale padosi desh ke the, shayad aapka ishara pakistan ki taraf tha.....lekin yeh mahaj ek lachar bhartiya ki soch hai shayad aap kisi aur desh ki oore isharaa kar rahen ho...aapko dhanyavad ki aap ne ek baar phir apni pratibadhtaha vayakt ki aatankvaad se ladne ke liye....ab aap kah rahen hain ki is aatankvaad ko sakhti se kuchla jayega.....aapko bahut bahut dhanyavad....lekin jara ek baar desh ke aam aadmi se bhee pooch lijiye ki woh aapki is soch ke bare mein kya sochta hai....ab kisi rajnitigya ka yeh kahna ki woh aatankvaad ke khilaf ladai mein apni jaaan de denge kisi veshya ke rone jaise lagta hai....aap raag alapte rahiye aur desh vashiyopn ki jaan jane dijiye aur aap apne grihmantri ke sath planning mein vyasat rahiye aakhhir yeh bhee to bahut zarooroi kaam hai.....halanki ab desh ka har shaksha yeh maa chuka hai ki rajnitik ichhashakti ki kami bharat ko agla philisteen aur israeal bana degi....yahan khule aam khela jayega dahshat ka khel....jaan li jayegi masson aur begunah logon ki aur aap kahete rahenge ki hum kadi karvahi karenge.....aap raag alapte rahiye ahinsa ka aur woh hinsa karte rahen.....aap shayad bhool gaye ki isi desh mein huye hain arjun jo jurm ke khilaf ladai mein apne logon ko hi marne utar gaye...isi desh mein huye ram jinhone atyachari ravan ko ahinsa se nahi hinsa se samjhaya....isi desh mein huye azad, bhagat aur bismil....lekin shayad kisi rajnitigya ke liye yeh sabhi baten bemani hian kyonki yahan to aatankvaad ke khatme se jyada zarooroi hai vote bank tayar karna.....isliye aap yeh behuda raag alapna choddijiye aur marne dijiye aam hindustani .... hum hindustani azadi ki ek aur ladai ke liye saksham hain.....
jai hind