flipkart

समय भी पुरुष

सुना है समय हर जख्म भर देता है
तुम्हे भी तो एक जख्म मिला था
तुम सिसक के रोई थी
आँखों में कुछ बूँदें ठहर कर
पलकों से नीचें ढलक गयीं थी
बेसुध सी तुम
वक़्त का ख्याल भी नहीं रख पाई थी
तुम्हारे दोनों हाथ खाली थे
सिवाय हवा के उनमे कुछ कैद नहीं रह पाया था

हर रिश्ता तो दूर ही था
लोग कहते रहे
वक़्त हर जख्म भर देगा
पर
क्या भर गया हर जख्म ?
नहीं ना
शायद समय भी पुरुष है ।