flipkart

तुम्हे भी तो प्रेम है


अक्सर तुम्हारे बिम्ब का
आकार उतर आता है मुझमे
निराकार
साकार
क्या है
कुछ भी तो नहीं कह सकता
हाँ यह ज़रूर है कि
आकार तुम से ही है
कभी व्योम का कोई सिरा तलाशते जब दूर निकाल जाता हूँ
आक़र तुम्हारे इसी स्वरुप में सिमट जाता हूँ
मैं जानता हूँ तुम स्वतंत्र हो
पर बंधन भी तुम्हे प्रिय हैं
अधिकार और स्वीकार
भाव मेरे हैं
यह अनुबंध भी तो मेरे हैं
तुम तो हमेशा से मुक्त रहे हो
रूई के फाहे पर चलने की कोशिश
ओह
देखो तो, क्या स्वप्न है
नहीं
आह्लाद से विपन्न है
खिलखिलाकर हंस रहे हो ना तुम?
हंसो
और हंसो
कभी कभी विपन्न के लिए भी हँसना चाहिए
किसी स्वप्न के लिए भी हँसना चाहिए
तभी अचानक रूई के फाहे
बदल बन गए
ओह
नहीं वाह
अब बारिश होने वाली है
देखना प्रेम बरसेगा
तुम भी आना रससिक्त हो जाना
आखिर तुम्हे भी तो प्रेम है.