flipkart

इस फाल्गुन न चढ़ेगा कोई रंग सांवरी


फिर एक बार फाल्गुन आ गया है. मदमस्त कर देने वाली एक सुगंध नथुनों से होती हुयी अंतस तक उतर गयी है. इस बार का फाल्गुन हर बार से कुछ अलग है. यह तो ज़रूर है की आने वाली जेठ में धूप त्वचा को झुलसा देगी लेकिन इस विचार से दूर मैं आज फाल्गुन की मुलायम ठण्ड वाली हवा में घुली एक खुशबू को महसूस कर रहा हूँ. शायद यह हवा इस लिए भी अच्छी लग रही है क्योंकि इसमें तुम्हारी बदन से आती महक की अनुभूति होती है. किसी मैदान के किनारे लगे पलाश के पेड़ों पर लगे फूल अचानक उद्देश्यपरक लगने लगे हैं. इन्हें छूना बिलकुल तुम्हरे स्पर्श का एहसास कराता है. इन फूलों को उठा कर देर तक अपनी हथेलियों के बीच दबाये रहता हूँ. लगता है मानो कुछ देर तक तुम्हारा हाथ मेरे हाथों में रहा. इसके बाद जब हथेलियों को खोलता हूँ तो उनपर लाल रंग चढ़ चुका होता है. चटख लाल रंग, खुशबूदार लाल रंग. उत्साह और उर्जा का प्रतीक लाल रंग. कुछ ऐसा ही तो तुम्हारी हथेलियों को अपनी हथेलियों के साथ जोड़ने पर महसूस होता है.
इस फाल्गुन में सब के साथ रंग खेलूंगा. जम कर खेलूंगा. सुबह से भरी दोपहर तक खेलूंगा. लेकिन यकीन मानो मेरे ऊपर अब कोई रंग चढ़ने वाला नहीं है. शायद इसीलिए मैं अब निश्चिन्त हो गया हूँ. सतरंगी रंग में तो मैं रंग ही चुका हूँ. नित नए हो जाते हैं यह रंग. छुड़ाने की कोशिश तो मैं कभी करता नहीं हाँ यह रंग रोजाना कुछ और ही चटख होते जा रहें हैं. दोस्त पूछते हैं मुझसे की कहाँ से लाया मैं यह रंग? मैं हंसकर रह जाता हूँ.
हर तरफ लोग उल्लास और उत्साह से भरे हैं. मैं भी भरा हूँ. बस कारण कुछ अलग है परिणाम तो सामान ही है. हर वक़्त तुम्हारी यादों के साथ रहता हूँ. मदनोत्सव मना रहा हूँ. रितुराग तो सभी गा रहें हैं मैं भी गा रहा हूँ शायद सुर कुछ अलग हैं. अचानक कई भाव आ रहें हैं और चलें भी जातें हैं. कुछ मुकाम ऐसे हैं जो मेरे इन सभी भावों से परिचित हैं. आंसू हो, बेचैनी हो, गुस्सा हो या मन में भरा असीमित स्नेह. अचानक बारिश होने लगती है और मैं उससे बचने का कोई प्रयास नहीं करता. इसमें तुम्हारा नेह होता है न इसीलिए. बहुत दूर तक यूं चला जाता हूँ. यह कटाई मत सोचना की अकेला हूँ. नहीं हरगिज नहीं. हर वक़्त कोई रंगीन परछाई मेरे साथ चलती है. मैं कहीं सहसा रुकता हूँ, ठिठकता हूँ तो वो मेरे पास आकर पूछती है, क्या हुआ? मैं उससे झूठ ही कह दूं की मैं अकेला हूँ तो धीरे से मेरे कानो में कहती है, नहीं. तुम अकेले नहीं हो. मैं हूँ तुम्हारे साथ. आह. इतना सुनाने के बाद न जाने कहाँ से नयी ऊर्जा आ जाती है भीतर. मैं चल पड़ता हूँ फिर एक बार तुम्हारे साथ. अब रुक नहीं सकता क्योंकि बहुत लम्बी दूरी जो तय करनी है.