flipkart

संपादक केबिन से बाहर बैठें तो !


मुझे नहीं पता कि संपादकों के केबिन में बैठने की परंपरा कब शुरू हुई लेकिन अगर यह परंपरा खत्म हो जाए तो अच्छा। केबिन में संपादक क्यों बैठते हैं इस बारे में अगर गंभीरता से सोचा जाए तो पत्रकारिता में कारपोरेट कल्चर और मीडिया संस्थानों के प्रबंधन का आपसी गठजोड़ सामने आयेगा। इसी का परिणाम पेड न्यूज हैं। 
सिद्धांतों की पत्रकारिता में संपादक एक पद मात्र है। इस पद पर बैठा व्यक्ति खबरों और आम जनता के बीच एक सूत्र होता है। इसकी जिम्मेदारी खबरों की विश्वसनीयता बनाए रखने और समाज के प्रति होती है। जनहित के मुद्दों को प्रमुखता से प्रस्तुत करना इनका परम धर्म है। लेकिन वक्त बदलने के साथ संपादक की भूमिका बदल गई। 
खबरों पर जब विज्ञापनदाता हावी होने लगे और पत्रकारिता का बीड़ा औद्योगिक समूहों ने उठा लिया तो संपादक की भूमिका गौड़ हो गई। प्रबंधन ऐसे पत्रकार की तलाश करने लगा जो मैनेजर की भूमिका भी बखूबी निभा सके। जिन पत्रकारों में मैनेजमेंट का गुण था उन्हें प्रबंधन ने संपादक की कुर्सी दे दी। अगर उस संपादक में पत्रकारिता का गुण कुछ कम भी हुआ तो चलेगा। यहां से खबरें मैनेज होने लगीं। खबरों का जन संदर्भ विज्ञापन संदर्भ के आगे बौना हो गया। इसे इस क्षेत्र में काम करने वाले आसानी से देख सकते हैं। संपादक के केबिन में मैनेजर के साथ एक व्यक्ति आता है। कुछ देर की बात-चीत और चाय नाश्ते के बाद संपादक अपने मातहतों को एक रिलीज पकड़ा देता है। इसके साथ ही आदेश देता है एक खबर बना कर ठीक-ठाक तरीके से लगा दी जाए। अखबारों में काम करने वाले जानते होंगे कि हर शाम विज्ञापन प्रभारी की ओर कई रिलीजें विज्ञापन लिखकर संपादक के पास पहुंचा दी जाती हैं। अब इन रिलीजों में लिखी बातों का आम जन से भले ही कोई लेना-देना न हो लेकिन इन सभी को अच्छी तरह से डिस्प्ले किया जाता है। इसके लिए प्रमुख खबरों को भी छोटा करना पड़े तो कर दिया जाता है। संभव है कि खबरों को स्थान देने की यह रणनीति संपादकीय मंडल के सभी सहयोगियों के साथ न बनाई जा सके। हो सकता है कोई विरोध कर दे। इसीलिए संपादकों को प्रबंधन ने केबिन दे दिए हैं बैठने के लिए। 
प्रबंधन का रवैया अपने पत्रकारों के लिए हमेशा की दमनात्मक रहा है इसमें दो राय नहीं है। पूरी दुनिया के लिए हक की आवाज उठाने वाला पत्रकार अपने दफ्तर में शोषण का शिकार होता है। इस शोषण में संपादकों का भी बड़ा हाथ होता है। अपने केबिन में बुलाकर सबको मैनेज करने की कोशिश में लगे रहते हैं। अगर कोई सहयोगी प्रबंधन के खिलाफ जाने की कोशिश करता है तो उसे सबसे पहले संपादक ही रोकते हैं। इस मैनेजमेंट की जगह फिर से वही उनका केबिन होती है। अपने चमचों से तेल लगवाने के लिए भी संपादक केबिन का बखूबी उपयोग करते हैं। 
कुछ मत यह भी कहते हैं कि संपादकों का केबिन में बैठना पेशागत मजबूरी है। लेकिन मुझे लगता है कि यह डीलिंग की मजबूरी है। सभी सहयोगियों के साथ बैठ कर डीलिंग नहीं की जा सकती है। प्रबंधन का मोहरा भी खुले में रहे यह प्रबंधन को भी मंजूर नहीं होगा। लेकिन इस सबके बीच पत्रकारिता का तो नाश निश्चित है। अगर समाज की नजरों में पत्रकारिता का महत्व और सम्मान बनाए रखना है तो केबिन प्रथा को खत्म करना ही होगा।